, ि , - ि

Saturday, June 9, 2012

हौसला न मिला

टूटकर बिखरे ऐसे की फिर हौसला न मिला,
बेगुनाही का मेरे आज तक फैसला न मिला,
भटकता रहता हूँ दर-ब-बदर लाख ठोकरें खा,
तन्हा जिंदगी बिताने को एक घोंसला न मिला,
दूरियां बढती गयीं और वक़्त के साथ - साथ,
मगर यादों के चुभे काटों से फासला न मिला,
सुना है लोग कहतें थे, कि जिंदगी खोखली है,
बहुत ढूंढा पर वो सुराख़ कहीं खोखला न मिला......

4 comments:

  1. ऋता शेखर मधुJune 10, 2012 4:08 AM

    बहुत खूब...

    ReplyDelete
  2. अरुन शर्माJune 10, 2012 4:24 AM

    बहुत -२ शुक्रिया

    ReplyDelete
  3. dr.mahendragJune 10, 2012 4:54 AM

    ATI SUNDAR

    ReplyDelete
  4. अरुन शर्माJune 10, 2012 10:49 PM

    धन्यवाद SIR

    ReplyDelete
Add comment
Load more...